Header Ads

जेएलएन,जनाना एवं सेटेलाईट अस्पतालों में नियमित सेवायें रहेगी, चिकित्सा विभाग के समस्त कर्मियों के अवकाश निरस्त

अजमेर। जिले के सेवारत चिकित्सकों द्वारा अपनी मांगों के सम्बन्ध में राज्य सरकार को त्याग पत्रा दिए जाने के पश्चात भी मुख्यालय के प्रमुख चिकित्सालय जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय, जनाना चिकित्सालय एवं सेटेलाईट चिकित्सालय में आपातकालिन, आउटडोर सहित समस्त सेवायें नियमित चलती रहेगी। कार्य व्यवस्था बनाये रखने के लिए जिला मुख्यालय पर नियंत्रण कक्ष की स्थापना भी की गयी है।

जिला कलेक्टर गौरव गोयल ने रविवार सायं कलक्ट्रेट सभागार में जयपुर चिकित्सा भवन से विडियो कांफे्रस वार्ता के पश्चात अधिकारियों की बैठक में चिकित्सा व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसी भी मरीज को कोई कठिनाई नहीं आने दी जायेगी, इसके लिए समस्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जायें। उन्होंने बताया कि अजमेर मुख्यालय के अतिरिक्त जिले के प्रमुख शहर किशनगढ़ ब्यावर, केकड़ी, नसीराबाद एवं बिजयनगर में भी आउटडोर एवं आपातकालिन सेवायें नियमित रूप से रहेगी। इन चिकित्सालयों में वरिष्ठ चिकित्साकर्मी को पीएमओ का चार्ज दिलाया जा रहा है।

जिला कलेक्टर ने बताया कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 32 आयुर्वेद चिकित्सक एवं जिले में कार्यरत अन्य 130 आयुर्वेद चिकित्सकों की ड्यूटी चिकित्सालयों में लगायी जा रही है, जहां वे मरीजो का ईलाज करेंगे। उन्होंने एम्बूलेन्स सेवाओं के लिए भी निर्देश दिये कि वे हर समय सतर्क रहे तथा आपातकालीन स्थिति में मरीज को आगामी आदेश तक निजी चिकित्सालय में भी लेजाना पड़े, तो ले जायें।

नियंत्राण कक्ष स्थापित :
जिला कलक्टर ने बताया कि चिकित्सा व्यवस्था में मरीजों को कोई कठिनाई नहीं हो , इसके लिए जिला मुख्यालय पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में नियंत्राण कक्ष की स्थापना की गयी है। जिसका दूरभाष संख्या 0145- 2631111 रहेगा।

चिकित्साकर्मियों के अवकाश निरस्त :
जिला कलक्टर ने बताया कि जिले के चिकित्सा संस्थाओं पर कार्यरत/पद स्थापित कोई भी कार्मिक नर्सिग स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ, टैक्निकल स्टाफ सोमवार से अग्रिम आदेशों तक अवकाश पर नही रहेगे। यदि किसी चिकित्सा संस्थान पर कार्यरत कोई नर्सिंग कर्मचारी अवकाश पर है, तो उसका अवकाश तुरन्त प्रभाव निरस्त करते हुए वह अपनी उपस्थिति अविलम्ब अपनी ड्यूटी पर देगा।

उन्होंने बताया कि कार्यरत चिकित्सकों के त्यागपत्रा देकर ड्यूटी पर नही रहने के कारण पदस्थापित समस्त नर्सिग स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ एवं टैक्निकल स्टाफ अनिवार्य रूप से अपनी ड्यूटी पर उपस्थित रहेगें तथा अपना मुख्यालय नही छोड़गें। प्रत्येक चिकित्सा संस्थान पर पर्याप्त मात्रा में वे दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे। ताकि किसी मरीज को असुविधा ना हो।

भामाशाह योजना के मरीजों को सुविधा उपलब्ध कराये :
जिला कलेक्टर ने बताया कि भामाशाह योजना से संबंधित जिले में 16 निजी चिकित्सालय अधिकृत है।  रोगी किसी भी चिकित्सा संस्थान पर इलाज हेतु उपस्थित होता है, तो उस रोगी को भामाशाह योजना के लिए अधिकृत निजी चिकित्सालय के लिए तुरन्त प्रभाव से रैफर किया जाएगा।

बैठक में जवाहरलाल नेहरू आयुर्विज्ञान महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डाॅ. आर.के. गोखरू, उप निदेशक स्वायत्त शासन विभाग श्री किशोर कुमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी प्रतिनिधि एस.के. सिंह, जिला आयुर्वेद अधिकारी बाबुलाल शर्मा सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.