प्रारंभिक शिक्षा में गुणवत्ता वृद्धि के लिए हो प्रभावी प्रयास : देवनानी - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

प्रारंभिक शिक्षा में गुणवत्ता वृद्धि के लिए हो प्रभावी प्रयास : देवनानी

अजमेर।  शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने कहा है कि प्रारंभिक शिक्षा में गुणवत्ता के लिए प्रभावी प्रयास जरूरी है। इसी से माध्यमिक शिक्षा का विकास किया जा सकता है। उन्हाेंने आगामी 30 नवम्बर तक ब्लॉकवार पंचायत शिक्षा प्रसार अधिकारियों द्वारा विद्यालयों का शत-प्रतिशत निरीक्षण सुनिश्चित कर वहां रही कमियों को दूर करने के लिए प्रभावी प्रयास किए जाने का भी आह्वान किया। उन्होंने कहा कि पंचायत एजूकेशन ऑफिसर विद्यालयों का शत-प्रतिशत निरीक्षण करने के साथ ही इससे संबंधित रिपोर्ट भी शाला दर्शन पोर्टल पर अपलोड करे। उन्होंने राज्य के सभी शिक्षा अधिकारियों को जिलेवार विद्यालयों की फीस कमेटियों का त्वरित गठन करवाने और उनकी प्रभावी मोनिटरिंग सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए।

देवनानी बुधवार को शिक्षा संकुल में राज्य के जिलों और ब्लॉक स्थित शिक्षा अधिकारियाें के साथ विडियो कॉन्फ्रेस कर रहे थे। उन्होंने इस दौरान आगामी 18 नवम्बर को विद्यालयों में आयोजित होने वाली मदर्स-टीचर्स बैठकों के भी प्रभावी आयोजन, विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए समुचित प्रयास किए जाने, विद्यालयों में खेल के मैदान, बाउण्ड्री वॉल आदि निर्माण के संबंध में भी प्रस्ताव तैयार कर जिला कलेक्टर के माध्यम से शीघ्र भेजे जाने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने ‘मुख्यमंत्री विद्या दान कोष’ के अंतर्गत स्वेच्छा से विद्यालय विकास हेतु सहयोग करने और सहयोग लिए जाने के लिए भी आह्वान किया।

शिक्षा राज्य मंत्री ने निजी विद्यालयों के अप्र6िाक्षित शिक्षकों के नेशनल ओेपन स्कूल पोर्टल में पंजीयन की स्थिति के बारे में भी जानकारी ली तथा कहा कि शिक्षा अधिकारी यह भी सुनश्चित करें  कि इस पंजीयन के बाद सीखने के लिए ‘स्वयं पोर्टल’ पर भी शिक्षक अपना रजिस्ट्रेशन करवाएं। इसी से सही मायने में उनके प्रशिक्षण की प्रक्रिया प्रारंभ हो सकेगी।

देवनानी ने कहा कि विद्यालयों के निरीक्षण के साथ ही वहां रही कमियों के सुधार के लिए भी समयबद्ध कार्यक्रम बनाकर कार्य किया जाए। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्रों से विद्यालयों को जोड़े जाने, जिन स्थानों पर आवासीय छात्रावास प्रारंभ नहीं किए गए हैं, वहां त्वरित उन्हें प्रारंभ करवाने के साथ ही पीईओ और बीईओ द्वारा परस्पर समन्वय रखते हुए विद्यालयों के विकास के लिए कार्य किए जाने पर जोर दिया।
   
विडियो कॉन्फ्रेस के दौरान देवनानी ने बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए चित्तौड़गढ़ जिले में आयोजित की गई ग्राम चौपालों के आयोजन को महत्वपूर्ण बताया। उन्हाेंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि प्रतिभावान बालिकाओं के प्रोत्साहन के लिए ‘उड़ान’ के जरिए उनके व्यक्तित्व विकास और प्रतिभा को आगे बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने इस तरह की गतिविधियॉं और स्थानों पर भी आयोजित किए जाने पर जोर दिया।
   
उन्होंने शिक्षा अधिकारियों को आह्वान किया कि वे शिक्षा क्षेत्र में किए गए राज्य सरकार के प्रयासों को आगे बढ़ाएं तथा यह सुनिश्चित करे कि राजस्थान गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में देश में अग्रणी राज्य के रूप में अपनी अलग पहचान बनाए। उन्होंने विद्यालयों के निरीक्षण के साथ ही वहां पर विकासात्मक गतिविधियों में शिक्षा अधिकारियों को रूचि लेकर कार्य किए जाने पर भी जोर दिया।
   
सर्व शिक्षा अभियान के आयुक्त डॉ. जोगाराम ने इस दौरान शिक्षा अधिकारियों से शिक्षा क्षेत्र में किए गए विशेष कार्यों के बारे में जानकारी ली तथा नवाचारों के जरिए शैक्षिक उन्नयन को सभी स्तरों पर सुनिश्चित करने की बात कही। उन्होंने विद्यालयों के निरीक्षण और पाई गई कमियों के सुधार के लिए किए गए प्रयासों के बारे में जानकारी ली तथा कहा कि निरीक्षण व्यवस्था को और अधिक प्रभावी किए जाने की जरूरत है। विडियो कॉन्फ्रेस में शिक्षा मंत्री ने एक-एक जिले के शिक्षा अधिकारी से स्वयं संवाद कर प्रारंभिक शिक्षा में गुणवत्ता कैसे बढ़े, इसके संबंध में वैयक्तिक योगदन दिए जाने के लिए प्रोत्साहित भी किया।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.