सॉयल हेल्थ कार्ड योजना ने किसानों को किया खुशहाल - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

सॉयल हेल्थ कार्ड योजना ने किसानों को किया खुशहाल

भीलवाड़ा। जब से मृदा स्वास्थ्य परीक्षण और भूमि की सेहत का ख्याल रखते हुए खेती-बाड़ी को सम्बल दिए जाने का दौर शुरू हुआ है, तभी से खेत की मिट्टी पहले की अपेक्षा कई गुना ऊर्वरा होकर अधिक उपज देने लगी है। इस दिशा में सरकार की ओर से मृदा स्वास्थ्य परीक्षण और सॉयल हैल्थ कार्ड की योजना किसानों में लोकप्रिय है और इसके फायदों से अभिभूत होकर किसान अपने खेतों से खलिहान भर रहे हैं और खलिहान किसान परिवारों में खुशहाली भरने लगे हैं।

सॉयल हैल्थ कार्ड बनने के पहले और बाद की स्थिति में किसान काफी बदलाव महसूस करने लगे हैं। किसानों का मानना है कि मृदा स्वास्थ्य परीक्षण के कारण उनके खेतों की मिट्टी के बारे में पूरी वैज्ञानिक जानकारी आम किसानों तक साझा हुई है और इससे उन्हें पक्का पता चल गया है कि उनके खेत की मिट्टी में क्या कमी है और किस तरह उस कमी को पूरा करते हुए कम से कम जमीन में अधिक से अधिक उपज पायी जा सकती है।

मृदा स्वास्थ्य परीक्षण ने किसानों की जिन्दगी ही बदल दी है और वे अब अपने खेत के लायक फसलें लेने तथा खेत की मिट्टी का स्वास्थ्य हमेशा के लिए बरकरार रखने के लिए गंभीरतापूर्वक प्रयासों को अपनाने लगे हैं। राजस्थान में सॉयल हैल्थ कार्ड की अभिनव और बहुद्देश्यीय परंपरा के शुरू होने के उपरान्त अब खेतों की दशा सुधरी है तथा किसानों में जागरुकता का संचार हुआ है।

प्रदेश के भीलवाड़ा जिले में भी सॉयल हैल्थ कार्ड योजना का प्रभावी क्रियान्वयन हो रहा है और इसकी वजह से काश्तकारों के खेतों को नया जीवन मिला है। ऎसे ही एक काश्तकार हैं पन्नालाल पुत्र लालूराम शर्मा। वे भीलवाड़ा जिले की सहाड़ा पंचायत समिति अन्तर्गत गणेशपुरा ग्राम पंचायत के गलोदिया गांव के रहने वाले हैं तथा लघु सीमान्त श्रेणी के कृषकों में गिने जाते हैं।

आया सकारात्मक बदलाव :
पन्नालाल बताते हैं कि सॉयल हैल्थ कार्ड बनने से पूर्व उचित फसल उत्पादन, सिंचाई, भूमि संबंधी समस्या, ऊर्वरकता, खाद(डीएपी, यूरिया) आदि के अंधाधुंध प्रयोग से ढेरों दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। लेकिन कृषि विभाग द्वारा मृदा स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद जब से उन्हें सॉयल हैल्थ कार्ड प्राप्त हुआ, तभी से खेती में अत्यधिक लाभ मिलने लगा है।

उत्पादन बढ़ा, आमदनी भी :
इस कार्ड से यह अच्छी तरह पता चल गया कि जमीन में किस फसल के लिए कितना खाद डालना है, ऊसर जमीन को कैसे सुधारें। इससे खेत पर होने वाले खर्च में कमी आयी है, रसायनिक ऊर्वरकों का फिजूल खर्च कम हुआ है और फसलों का गुणात्मक एवं संख्यात्मक दृष्टि से बेहतर उत्पादन हो रहा है जिससे कि आमदनी भी कई गुना बढ़ गई है।


बाँचने लगे हैं खेत की कुण्डली :
सॉयल हैल्थ कार्ड पाने के बाद काश्तकार पन्नालाल खुद वैज्ञानिक किसानी को सीख चुके हैं और अपने खेतों की मिट्टी की सभी प्रकार की जाँचों, मुख्य पोषक तत्वों, जाँच के अनुसार खाद व ऊर्वरकों की सिफारिश, सूक्ष्म पोषक तत्वों, मृदा गुण व पोषक तत्वों के उपयुक्त स्तर, पोषण प्रबन्धन, सफेद व काला ऊसर की पहचान व सुधार, फसलों के चयन आदि सभी बातों के बारे में सही और सटीक समझ बना चुके हैं। पन्नालाल की ही तरह भीलवाड़ा जिले में खूब सारे किसान हैं जिन्होंने सॉयल हैल्थ कार्ड के जरिये अपने खेतों की तस्वीर बदल कर समृद्धि की डगर पा ली है।


Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.