आनासागर झील से हटेगी जलकुंभी, फ्लोटर बोट डिविडीग मशीन की खरीद पर होगा 1 करोड़ 34 लाख रूपये व्यय - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

आनासागर झील से हटेगी जलकुंभी, फ्लोटर बोट डिविडीग मशीन की खरीद पर होगा 1 करोड़ 34 लाख रूपये व्यय

अजमेर। आनासागर झील को स्वच्छ एवं सुंदर रखने के लिए स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत प्रयास किये जा रहे है। झील से शीघ्र ही जलकुंभी का सफाया होगा तथा जल भी स्वच्छ रहेगा।
   
जिला कलेक्टर गौरव गोयल ने बताया कि आनासागर झील अजमेर शहर के मध्य में स्थित है, इसे स्वच्छ,सुन्दर एवं पर्यावरण को दृष्टिगत रखते हुए वर्तमान में आई जलकुम्भी की समस्या तथा निरन्तर जलकुम्भी एवं फ्लोटिंग मेटेरियल इत्यादि को हटाने के लिए अजमेर स्मार्ट सिटी लि0 द्वारा दीर्घ कालिक प्रयास के तहत् छोटी फ्लोटर बोट डिविडींग मशीन क्रय की जा रही है। जो वर्ष भर झील में काम करेगी। इससे झील से जलकुंभी तो हटेगी ही साथ ही कचरा भी साफ होगा। उन्होंने बताया कि झील की सुन्दरता बनाये रखी जायेगी इसमें झील को कोई नुकसान नहीं होने दिया जायेगा। छोटी फ्लोटर बोट डिविडींग मशीन आ जाने पर झील का पानी ब्ल्यु कलर का एक दम साफ करने के प्रयास रहेंगे।
   
उन्होंने बताया कि पूर्व में उदयपुर से किराये पर बड़ी डिविडींग मशीन मंगवाकर दो बार प्रशासन द्वारा झील की सफाई करवाई गई प्रत्येक बार करीब पांच लाख रूपये का व्यय हुआ। आनासागर की भौगोलिक स्थिति एवं कार्य की मात्र को दृष्टिगत रखते हुए छोटी फ्लोटर बोट डिविडींग मशीन क्रय की जा रही है। जो आगामी तीन-चार माह में आ जायेगी। इसके लिए अजमेर नगर निगम अजमेर द्वारा अजमेर स्मार्ट सिटी लि0 को एक डिविडींग मशीन क्रय कर देने तथा भविष्य में इसका रख-रखाव एवं ऑपरेशन तथा ओएण्डएम का भुगतान संवेदक को करने की सहमति एवं अनुशंषा पर उक्त मशीन नगर निगम अजमेर को हस्तान्तरित करने का निर्णय लिया गया।
   
उन्होंने बताया कि यह मशीन एक बार में आवश्यकता अनुसार 1.5 मीटर चौड़ाई एवं करीब तल से 2 मीटर गहराई तक विड (जलकुम्भी) इत्यादि हटा देगी, साथ ही फ्लोटिग मेटेरियल भी इसमें लगी जाली से हटाकर साफ करेगी। जिससे पानी में तैरने वाले प्लास्टिक, थैलिया इत्यादि भी हट जायेगी तथा सम्पूर्ण विड एवं फ्लोटिंग मेटेरियल किनारे पर निकाल कर रख देगी। जिससे झील स्वच्छ एवं सुन्दर रहेगी। यह फर्म अजमेर नगर निगम अजमेर से प्राप्त निर्देशों के अनुसार कार्य करेंगी।

उन्होंने बताया कि इस छोटी फ्लोटर वोट डिविडींग मशीन क्रय कर भविष्य में रख-रखाव एवं चालन हेतु देने का निर्णय लेकर निविदाएं की गई। निविदाओं में नगोशिएशन पश्चात् फ्लोटर बोट डिविडीग मशीन के क्रय पर एक करोड़ 34 लाख रूपए व्यय होगा तथा निविदा में ओएण्डएम पांच वर्ष तक उसी फर्म से करवाने की दरें प्राप्त की गई। जिस पर प्रथम वर्ष रख-रखाव कम्पनी द्वारा वांरटी प्रदान की गई एवं खर्चा भी नहीं होगा। सिर्फ ऑपरेशन का भुगतान करना होगा।
     



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.