कलेक्टर ने सुनी जनसमस्याएं, मौके पर ही अधिकारियों को दिए दिशा निर्देश - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

कलेक्टर ने सुनी जनसमस्याएं, मौके पर ही अधिकारियों को दिए दिशा निर्देश

अजमेर । जिला कलेक्टर गौरव गोयल ने शुक्रवार को पीसांगन पंचायत समिति  की दौराई ग्राम पंचायत मुख्यालय के अटल सेवा केन्द्र पर रात्रि चौपाल की तथा चौपाल में लोगों की समस्याए सुनी तथा मौके पर ही अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

चौपाल में ग्रामीणों ने दौराई की आवासन मण्डल काॅलोनी में अव्यवस्था की शिकायत की जिस पर जिला कलेक्टर ने मौके पर ही आवश्यक समाधान का आश्वासन दिया तथा ग्राम पंचायत को प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए कि वे काॅलोनी संधारण का कार्य स्वयं देखे। ग्राम पंचायत में यह प्रस्ताव पारित होने पर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। इसी प्रकार ग्रामीणों ने चारागाह भूमि में आबादी विस्तार की समस्या रखी। जिस पर जिला कलेक्टर ने बताया कि चारागाह भूमि में आबादी की जमीन नहीं दी जा सकती।

रात्रि चैपाल में पानी की बड़ी लाइन डालने यादव काॅलोनी में पानी भरने की समस्या दूर करने, चारागाह भूमि से अतिक्रमण हटाने, शराब की अवैध बिक्री रोकने, अखाड़ा खुलवाने, खेल मैदान विकसित करने तथा पुलिस चौकी खोलने संबंधी ग्रामीणों ने समस्याए रखी। जिला कलेक्टर ने बताया कि पेंशन संबंधी राशि स्वीकृत करने में कोई कठिनाई नहीं आएगी। राशि की कोई कमी भी नहीं है। उन्होंने मौके पर ही तहसीलदार को चरागाह भूमि से कच्चे अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए।

गोयल ने रसद संबंधी समस्याओं के लिए पटवारी एवं ग्राम सेवक को निर्देशित किया कि वे राशन डीलर से सूची प्राप्त कर सरपंच के साथ बैठक कर आवश्यक सर्वे करें। जिसमें ऐसे परिवार जो राशन की आवश्यकता रखते है। लेकिन राशन कार्ड में नाम नहीं जुड़ा हुआ है। उनके आवेदन पत्र एसडीओ के समक्ष रखे तथा जो गलत नाम जुड़े हुए है। उन्हें हटाने की कार्यवाही करें।

15 मिनट में स्वीकृत हुई वृद्धावस्था पेंशन :
दौराई गांव के 60 वर्षीय पुखराज  अपनी वृद्धावस्था पेंशन के लिए कई बार आवेदन कर चुके लेकिन उन्हें पेंशन स्वीकृत नहीं हो पायी थी। पुखराज दौराई में अपनी यह व्यथा जिला कलेक्टर को रात्रि चौपाल के दौरान बतायी। जिला कलक्टर ने समस्त कागजात देखने के पश्चात विकास अधिकारी को मौके पर ही पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश दिए।

अबोध बालक को मिली पेंशन :
रात्रि चौपाल के दौरान दौराई निवासी माणकचंद मण्डरावलिया के तीन वर्षीय पुत्र जो जन्म से ही मंदबुद्धि एवं मानसिक रोग से पीड़ित है। जिसका कई जगह ईलाज कराने पर भी ईलाज नहीं हो रहा था। अबोध बालक को देख जिला कलेक्टर भी पसीज गए तथा उन्होंने मौके पर ही विकास अधिकारी को विकलांग पेंशन स्वीकृत करने के निर्देश दिए तथा चैपाल में ही आवश्यक कार्यवाही कर विकलांग पेंशन स्वीकृति पत्र जिला कलक्टर ने माणकचंद को सौंपा।

इस मौके पर जिला प्रमुख वंदना नोगिया, मुख्यकार्यकारी अधिकारी निकया गोहाएन, उपखण्ड अधिकारी अशोक कुमार मीणा, पीसांगन के प्रधान दिलीप पचाड सहित समस्त विभागों के जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.