प्रदेश के सरकारी विद्यालयों में निजी विद्यालयों के मुकाबले अधिक हुआ नामांकन - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

प्रदेश के सरकारी विद्यालयों में निजी विद्यालयों के मुकाबले अधिक हुआ नामांकन

अजमेर ।  शिक्षा राज्यमंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा है कि प्रदेश में शिक्षा के क्षेत्रा में किए जा रहे नवाचारों से शैक्षिक क्रान्ति आयी है। प्रदेश के सरकारी विद्यालयों में निजी विद्यालयों के मुकाबले नामांकन बढ़ा है।

शिक्षा राज्यमंत्री प्रो. देवनानी शनिवार को अजमेर के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय वैशाली नगर में रमसा योजना अन्तर्गत 24 लाख 63 हजार के तीन कक्षा-कक्ष शिलान्यास, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय रामनगर में 32 लाख 27 हजार रूपए की लागत से निर्मित कक्षा-कक्ष, प्रयोगशाला कक्ष एवं कम्प्यूटर कक्ष का लोकार्पण तथा राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पुलिस लाइन में 32 लाख 84 हजार रूपए की लागत से बनने वाले नवीन कक्षा-कक्ष के शिलान्यास समारोह में मुख्य अतिथि पद से संबोधित कर रहे थे।

शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि नामांकन के मामलों में प्रदेश नम्बर वन पर है। सत्रा 2016-17 में सरकारी विद्यालयों में 82 लाख छात्रों का नामांकन हुआ है। जबकि इसी दौरान निजी विद्यालयों में 78 लाख छात्रों का ही नामांकन हुआ है। उन्होंने कहा कि नामांकन बढ़ाने का सभी शिक्षक संकल्प लें। इसके लिए घर-घर सम्पर्क करें। छात्रों एवं अभिभावकों से निरन्तर सम्पर्क  में रहे। ताकि यह नामांकन का आंकड़ा एक करोड़ से अधिक हो जाए। उन्होंने कहा कि बच्चों को अच्छा शैक्षणिक वातावरण प्रदान करें ताकि परीक्षा परिणाम में सुधार हो सके। उन्होंने कहा कि शत-प्रतिशत परिणाम प्रत्येक विद्यालय का रहना चाहिए। इसके लिए शिक्षक विद्यालयों में अधिक समय देने की मानसिकता बनाए। उन्होंने बताया कि इस वर्ष से पांचवी कक्षा में बोर्ड की परीक्षा होगी। वहीं आगामी वर्ष से तीसरी कक्षा में भी सामान्य परीक्षा के माध्यम से आगामी कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा।

देवनानी ने कहा कि सरकार विद्यालयों में कक्षा-कक्षों के साथ ही खेल मैदान, वाॅटर हारवेस्टिंग, स्मार्ट क्लास, डिजीटल क्लास से शिक्षा प्रदान करने का कार्य कर रही है। लेकिन इसका लाभ तभी मिलेगा जब शिक्षक विद्यालयों को संस्कारवान एवं गुणवत्ता पूर्ण शिक्षण प्रदान कर विद्यालयों को माॅडल के रूप में बनाएंगे। उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालयों की धीरे-धीरे काया पलट हो रही है। स्थितियों में सुधार हुआ है। फिर भी भामाशाहों के प्रयास से विद्यालय की स्थानीय आवश्यकताओं की पुर्ति की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षा के लिए दिया गया दान सदैव फलीभूत होता है। इसके लिए भामाशाहों को प्रेरित किया जाना चाहिए।

समारोह में अध्यक्षता नगर निगम के महापौर धर्मेंद्र गहलोत ने की जबकि विशिष्ट अतिथि अध्यक्ष अरविंद यादव थे। प्रारम्भ में विद्यालय प्रधान ने स्वागत करते हुए विद्यालय की गतिविधियों को बताया। इस मौके पर शिक्षा विभाग के अधिकारीगण, जनप्रतिनिधिगण एवं भामाशाह उपस्थित थे।

स्मार्ट कक्षा-कक्ष का अवलोकन :
शिक्षा राज्यमंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने वैशाली नगर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में चल रहे स्मार्ट कक्षा-कक्ष का अवलोकन भी किया। उन्होंने सभी छात्रों से प्रदेश की संस्कृति एवं भुगोल की जानकारी रखने के साथ ही मन लगाकर अध्ययन करने के लिए भी कहा।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.