LIVE : शांतिवन में ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का भव्य आगाज - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

LIVE : शांतिवन में ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का भव्य आगाज

Sirohi, Mount Abu, Abu Road, Rajasthan, Brahma Kumaris, Shantivan, Dadi Janki, Dadi Hridaymohini, PM Narendra Modi, Lal Krishan Adwani, Ravina Tondon
माउंट आबू। दुनिया की सबसे बड़ी आध्यात्मिक अंतरराष्ट्रीय संस्था ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय के 80 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर आबूरोड स्थित संस्था के मुख्यालय शांतिवन में अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन आज से शुरू हो गया है। सम्मलेन में भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, राज्यसभा उपसभापति पी जी कुरियन, राजस्थान के राजस्व मंत्री अमराराम, खादी गार्मोघोग मंत्री शम्भू दयाल बड़गुर्जर, फिल्म अभिनेत्री रवीना टंडन मौजूद है। इस अवसर पर भारत सहित विश्व के कई देशों के लोग भाग ले रहे हैं। वहीं संस्था प्रमुख राजयोगिनी दादी जानकी, अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी ह्दयमोहिनी समेत हजारों की संख्या में ब्रह्माकुमारीज व ब्रह्माकुमार भी मौजूद है।

इस अवसर पर फिल्म अभिनेत्री रवीना टंडन ने अपने संबोधन में कहा कि, ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय एक ऐसी संस्था है जो पूरी दुनिया में सबसे बड़ी और कारगार सेवा का पुनीत कार्य कर रही है। यह एक ऐसी संस्था है, जो पूरी दुनिया में प्यार, महोबत्त और ममता भरी सेवा दे रही है। उन्होंने कहा कि इन दिनों वह अपनी आगामी फिल्म को लेकर काफी व्यस्त हैं और फिल्म के प्रोमोशन के लिए वह काफी यात्राएं कर रही हैं, जिसके कारण वह काफी थकान महसूस कर रही हैं, लेकिन यहां आकर मैं एक बार फिर से खुद को काफी ऊर्जावान महसूस कर रही हूं। साथ ही उन्होंने आश्वास्त किया कि वे इस संस्था के लिए उनकी ओर से जितना हो सकता है, उतना हमेशा सहयोग करेंगी।




वहीं इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने अपने संबोधन में कहा कि, ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय पूरी दुनिया में एक मात्र ऐसा संगठन है, जिसका पूरा कार्य शुरू होने के बाद से लेकर इतना विस्तार केवल बहिनों के कारण हुआ है और आज तक भी बहिनाओं ने ही इस कार्य को बखूबी संभाला हुआ है। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि मैं एक ऐसी संस्था से शुरू से जुड़ा हुआ हूं, जो आज पूरी दुनिया में प्रामाणिकता, अनुशासन, प्रेम, देशभक्ति और सद्गुणों का प्रवाह कर रही है। यह सचमुच बहुत खुशी की बात है, जिससे काफी आनंद मिलता है।

उन्होंने कहा कि कितने लोग जानते हैं कि इस संस्था की प्रमुख दादी जानकी ने हाल ही में लंदन में जाकर अपनी आयु के 100 साल पूरे करने के बाद 102 साल पूरे किए हैं और आज वह हमारे साथ मौजूद है। यह हमारे लिए बहुत गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि मैंं जब यहां आया, मुझे काफी खुशी और आनंद की अनुभूति हुई और ये सब इसलिए हुआ क्योंकि इतने बड़े आयोजन को करने वाले सभी लोगों में आदर्श है। साथ ही यहां सभी कार्य आदर्शवाद के साथ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मैं जब भी इस संस्था की प्रशंसा सुनता हूं तो कई बार मुझे ऐसा लगता है, जैसे यह एक प्रकार से मेरी भी प्रशंसा हो रही है, मेरे देश की प्रशंसा हो रही है।

उन्होंने कहा कि, जिस प्रकार से किसी भी परिवार में सबसे प्रमुख दायित्व एक मां का होता है, ठीक उसी प्रकार से इस संस्था में ममता भरा दायित्व मेरी सभी बहिनें बखूबी निभा रही है। यह एक ऐसी संस्था है, जिसमें सभी दायित्वों को बहिनें न सिर्फ निभा ही रही हैं, बल्कि आज पूरी दुनिया के पुरूष भी इन बहिनों से सीख रहे हैं। उन्होंने इस अवसर पर बह्मा बाबा यानि दादा लेखराज के साथ अपने अनुभव भी साझा किए।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.