बाल विवाह हुआ तो परिजनों के साथ साथ ये सब भी माने जाएंगे दोषी - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

बाल विवाह हुआ तो परिजनों के साथ साथ ये सब भी माने जाएंगे दोषी

अजमेर। अक्षय तृतीया एवं पीपल पूर्णिमा के अबूज सावों के अवसर पर होने वाले संभावित बाल विवाहों पर पुलिस एवं प्रशासन की पैनी निगाह रहेगी। बाल विवाह रोकने के लिए मौहल्ले से लेकर जिला स्तर पर जिम्मेदारी तय की गई है। अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (शहर) अरविंद कुमार सेंगवा ने कहा कि बाल विवाह प्रतिषेध नियम 2006 के अन्तर्गत बाल विवाह गैर जमानती एवं संज्ञेय अपराध है। इसमें शामिल होने वाले प्रत्येक व्यक्ति को 2 वर्ष के कठोर कारावास या एक लाख रूपए जुर्माना अथवा दोनो की सजा का प्रावधान है। 

बाल विवाह में भाग लेने वाले बाराती, घोड़ी वाले, बैण्ड बाजे वाले, नाई, पण्डित, हलवाई, दर्जी, टेंट, फोटोग्राफी एवं अन्य कार्य करने वाले व्यक्ति जुर्म में बराबर के भागीदार होंगे। शादी का कार्ड छापने वाले प्रिटिंग प्रेस मालिक वर एवं वधु की जन्मतिथि के प्रमाण पत्र को प्राप्त करने के उपरान्त ही काॅर्ड का मुद्रण करेंगे। उन्होंने कहा कि बाल विवाह के दुष्परिणाम वर्तमान पीढ़ी समाज एवं राष्ट्र को भुगतने पड़ते है। देश की उन्नति बाधित होती है। बाल विवाह के कारण समाज में बैमेल विवाह मे वृद्धि होने से तलाक के प्रकरणों में बढोतरी होती है। इससे सामाजिक ताना-बाना छिन्न-भिन्न होता है। छोटी उम्र में मां बनने से बालिका के जीवन की क्षति भी हो सकती है।

उन्होंने कहा कि वर एवं वधु के शैक्षिक प्रमाण पत्रों में दर्ज जन्म तिथि के आधार पर आयु का निर्धारण किया जाना चाहिए। इनके अभाव में चिकित्सकों के मेडिकल बोर्ड का गठन कर नियमानुसार आयु का निर्धारण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिला मुख्यालय के साथ-साथ जिले के समस्त उपखण्ड स्तर पर 24 घण्टे बाल विवाह निषेध नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए है। इन पर बाल विवाह के संबंध में शिकायत दर्ज करवायी जा सकती है। उपखण्ड मजिस्ट्रेट को बाल विवाह प्रतिषेध अधिकारी नियुक्त किया गया है।

जिला स्तरीय कंट्रोल रूम पर शिकायत 0145-2630304 पर दर्ज करवायी जा सकती है। इसी प्रकार उपखण्ड अजमेर के लिए 0145-2627143, ब्यावर के लिए 01462-257132, टाॅटगढ़ के लिए 01462-216033, किशनगढ़ केलिए 01463-245850, केकड़ी के लिए 01467-220008, पुष्कर के लिए 0145-2773391, मसूदा के लिए 01462-266444, नसीराबाद के लिए 01491-224300, पीसांगन के लिए 0145-2775174, भिनाय के लिए 01466-273353, रूपनगढ़ के लिए 01497-225870 एवं सरवाड़ के लिए 01496-230886 पर भी संबंधित उपखण्ड में होने वाले बाल विवाह की सूचना दी जा सकती है। इसके अलावा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण 0145-2628277 तथा चाईल्ड लाईन हैल्पलाइन नम्बर 1098 पर भी बाल विवाह रोकने की प्रार्थना की जा सकती है।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.