अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर अजमेर में जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर अजमेर में जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित

अजमेर। अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर अजमेर में आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नागरिकों ने भाग लिया। उन्होंने योग का अभ्यास कर इसके गुणों को जाना एवं इसे जीवन में आत्मसात करने का संकल्प लिया। योग दिवस पर जिले में सभी पंचायत समिति मुख्यालयों एवं ग्राम पंचायतों में भी कार्यक्रम आयोजित किए गए। सबके प्रयासों से विश्व आज योग करके सामन्जस्य एवं शांति का संदेश दे रहा है। पूरा विश्व भारत से प्रेरणा लेकर योग का अभ्यास कर रहा है। योग शरीर की विभिन्न बीमारियों से बचाने तथा उनका निदान एवं निवारण करने में सक्षम व्यायाम पद्धति है।

इसमें शहर के हजारों लोगों ने योग के विभिन्न आसन सीखे एवं उनका अभ्यास किया। कार्यक्रम में योग शिक्षकों ने विभिन्न आसनों एवं उनसे होने वाले शारीरिक एवं मानसिक लाभों के बारे में जानकारी देते हुए योग तथा आसन करवाएं। कार्यक्रम में हर धर्म, समुदाय, जातियों के लोगोें ने भाग लिया।

कार्यक्रम में शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिता भदेल, जिला प्रमुख वंदना नोगिया, अजमेर नगर निगम के महापौर धर्मेन्द्र गहलोत, अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शिव शंकर हेड़ा, पूर्व सांसद रासासिंह रावत, पूर्व यूआईटी अध्यक्ष धर्मेश जैन, संभागीय आयुक्त हनुमान सहाय मीना,  पुलिस महानिरीक्षक मालिनी अग्रवाल, जिला कलेक्टर गौरव गोयल, नगर निगम के आयुक्त हिमांशु गुप्ता, पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह चौधरी, अतिरिक्त संभागीय आयुक्त के.के.शर्मा, अतिरिक्त जिला कलेक्टर किशोर कुमार, अबू सूफियान चौहान, अरविन्द कुमार सैंगवा, जिला रसद अधिकारी एवं समारोह के प्रभारी दीप्ति शर्मा, नगर निगम उपायुक्त ज्योति ककवानी, जिला आयुर्वेद अधिकारी बाबूलाल शर्मा सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

सीखे आसन, लगाया ध्यान

जिला स्तरीय योग दिवस कार्यक्रम में पतंजलि योग समिति के  डाॅ. मोक्षराज एवं उनके सहयोगी प्रशिक्षकों ने लोगों को योग के विभिन्न आसन एवं उनके शारीरिक व मानसिक लाभ का प्रशिक्षण दिया। कार्यक्रम के आरम्भ में जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने धनवंतरी के चित्र के समक्ष दीपप्रज्जवलन एवं पुष्प अर्पित कर सबके उत्तम स्वास्थ्य की कामना की। योगाभ्यास की शुरूआत ऋग्वेद वर्णित प्रणवगान एवं प्रार्थना से हुई। इसके पश्चात शिथिलीकरण के विभिन्न अभ्यास करवाए गए। इसमें ग्रीवा चालन, स्कंध, कटि एवं घुटना संचालन करवाए गए। योगाचार्यों ने शहरवासियों को खड़े होकर किए जाने वाले ताड़ासन, वृक्षासन, पादहस्तासन, अर्द्ध चक्रासन, त्रिकोणासन का अभ्यास करवाकर इनसे होने वाले लाभ की जानकारी दी। इसके बाद बैठ कर किए जाने वाले भद्रासन, वज्रासन, उष्ट्रासन, शशंाकासन एवं वक्रासन का अभ्यास कराया गया।  योगाचार्यों ने उदर के बल लेट कर किए जाने वाले मकरासन,  भुजंगासन एवं शलभासन  तथा पीठ के बल लेट कर किए जाने वाले सेतुबन्धासन उत्तानपादासन, अर्द्र्धहलासन, पवनमुक्तासन एवं शवासन का अभ्यास भी कराया।

इसके पश्चात शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए अति उत्तम माने जाने वाले कपालभाति, अनुलोेम-विलोम, शीतली, भ्रामरी प्राणायाम एवं ध्यान का अभ्यास कराया गया। इसके पश्चात मन को संतुलित रखकर आत्मविकास करने तथा विश्व में शांति, आंनन्द तथा स्वास्थ्य के प्रचार का संकल्प किया गया। शांति पाठ के साथ योगाभ्यास का समापन हुआ।


शहरवासियों में दिखा जबरदस्त उत्साह
तृतीय अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित इस कार्यक्रम के लिए शहरवासियों में जबरदस्त उमंग एवं  उत्साह नजर आया। पटेल मैदान में प्रातः 6 बजे से ही लोगों की भीड़ आना शुरू हो गई थी। यह क्रम योग अभ्यास शुरू होने के पश्चात तक जारी रहा । रात्रि को बारिश होने के बावजूद बड़ी संख्या में भाग लेकर शहरवासियों ने योग के प्रति अपने समर्थन को दोहराया। योगाभ्यास आरम्भ होने के पश्चात आने वालों के लिए कारपेट पर जगह नहीं होने पर उन्होंने स्टेडियम की सीढ़ीयों पर ही योग किया। प्रशासन की ओर से आजाद पार्क में भी अतिरिक्त व्यवस्था की गई । हजारों लोगों ने पटेल मैदान में आयोजित इस कार्यक्रम में योग का अभ्यास कर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त किया। जिला प्रशासन द्वारा कार्यक्रम स्थल पर आगंतुकों के बैठने एवं पार्किंग  सहित अन्य व्यवस्थाएं की गई। जिला कलेक्टर गौरव गोयल के नेतृत्व में अधिकारियों की टीम ने सारी व्यवस्थाएं संभाली। कार्यक्रम को सफल बनाने में मीडिया का भी सक्रिय सहयोग रहा। कार्यक्रम स्थल पर सुबह से ही मीडिया कर्मी उपस्थित रहे और उन्होंने भी योग का अभ्यास किया।  जिला प्रशासन ने मीडिया का भी धन्यवाद ज्ञापित किया है। योग के पश्चात समस्त सम्भागियों को पतंजलि द्वारा जूस, बिस्किट, नूडल्स वितरित किए गए।
सभी वर्गों की रही भागीदारी

कार्यक्रम में सभी धर्म, जाति व सम्प्रदाय के लोग उपस्थित रहे। महिलाओं एवं बालिकाओं ने भी इस शिविर में सक्रिय भागीदारी निभायी और बड़ी संख्या में उपस्थिति रही। कार्यक्रम में राष्ट्रीय के्रडिट कोर, राजस्थान पुलिस, स्काउट एवं गाइड, नर्सेज, दयानन्द बाल समिति, पतजंलि योग समिति, आर्य वीर दल शिक्षा विभाग, नेहरू युवा केन्द्र, आयुर्वेद विभाग, राजस्थान महिला कल्याण मण्डल चाचियावास, आर्य समाज, राष्ट्रीय आपदा मोचक दल एवं नगर निगम के स्थानीय वार्ड पार्षदों ने विशेष योगदान दिया।

डाॅ. मोक्षराज ने कहा कि अथर्ववेद, छान्दोग्योपनिषद्, बृहदारण्यकोपनिषद् व केनोपनिषद् में प्राण विद्या का वर्णन किया गया है। प्राण शक्ति के विज्ञान से मनुष्य अपनी आयु 300 वर्ष तक बढ़ा सकता है। इस योगाभ्यास में प्रस्तुति सुशान्त ओझा, परमजीत कौर, विश्वास पारीक ने प्रमुख मंच से तथा उपमंच से विवेक चण्डक, जसवन्तसिंह, मुकेश गौड़, किशनस्वरूप पारीक, कमलेश ओझा, देवज्ञा चौहान, हिना केशवानी व प्रणव प्रजापति ने दी।

दयानन्द बाल सदन के छात्र ने एक घण्टे तक शीर्षासन किया
दयानन्द बाल सदन में गाँव नून्दरी मालदेव ब्यावर के रहने वाले कक्षा 10 के छात्र विकास ने एक घण्टे तक सम्पूर्ण कार्यक्रम में शाीर्षासन किया। विकास की योग्यता एक घण्टा 35 मिनट तक शीर्षासन करने की है। इसी प्रकार बाल सदन का दूसरा छात्र आकाश भी घण्टेभर का शीर्षासन कर सकता है।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.