राजा दाहरसेन जयंती पर अर्पित की पुष्पांजलि, सिंधु मित्र बप्पारावल का स्मारक इसी वर्ष होगा तैयार - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

राजा दाहरसेन जयंती पर अर्पित की पुष्पांजलि, सिंधु मित्र बप्पारावल का स्मारक इसी वर्ष होगा तैयार

अजमेर। सिंध पर किए गए हमलो का सशक्त विरोध करते हुए शहीद होने वाले सिंध के राजा दाहरसेन की जयंती के अवसर पर आज उन्हें श्रृद्धा और उल्लास के साथ श्रृद्धांजली अर्पित की गयी। हिन्दुस्तान के सीमांत राज्य सिंध पर अरब के खलीफा के आदेश से मोहम्मद बिन कासिम के नेतृत्व में किए गए हमले से महाराजा दाहरसेन के साथ उनकी रानी लाडी बाई, राजकुमारी परमाल और सूर्य कुमारी ने भी युद्ध में विदेशी हमलावरों का सामना किया था। महाराज दाहरसेन की स्मृति में बने अजमेर में लगभग 40 हजार वर्गगज क्षेत्र पर स्मारक पर आज देशभक्ति के तरानों ने सम्पूर्ण वातावरण को शौर्य की फिजा में बदल दिया। आज देशभक्ति की 20 जबरजस्त प्रस्तुतियों में कलाकारों, शैक्षणिक विद्यालयों की छात्र छात्राओं ने देशभक्ति पर आधारित रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में दाहरसेन के साथ हिंगलाज माता, श्रीचंद भगवान, ईष्ट झूलेलाल, संत कंवरराम, शहीद हेमु कालानी, राणा रतनसिंह व विवेकानन्द सहित कई संतों और वीरों को श्रृद्धांजली अर्पित की गयी। सिंध की सभ्यता और संस्कृति पर आधारित प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया गया। समारोह में राजस्थान धरोहर संरक्षण एवं प्रौन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष ओंकारसिंह लखावत ने इस अवसर घोषणा की कि सिंध को विदेशी आक्रमणताओं से मुक्त करने वाले सिंधु मित्र बप्पारावल का एक भव्य स्मारक, एकलिंग जी निकट बप्पारावल के स्थान पर 2017 में पूर्ण कर जनता को समर्पित कर दिया जायेगा।

अजमेर विकास प्राधिकरण, नगर निगम, पर्यटन विभाग, भारतीय सिंधु सभा, सिन्धुपति महाराजा दाहरसेन विकास व समारोह समिति के संयुक्त तत्वाधान में जयंती के अवसर पर पांच दिवसीय कार्यक्रमों में रंगभरो, देशभक्ति गायन, नृत्य, बॉस्केट बॉल प्रतियोगिताओं के विजेताओं को भी पुरस्कृत किया गया।

इस अवसर पर शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी, महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री अनिता भदेल, अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शिवशंकर हेड़ा, जिलाध्यक्ष अरविन्द यादव, केन्द्रीय कार्यालय प्रमुख भारतीय सिन्धुसभा मुम्बई ईश्वर लालवाणी, पूर्व विधायक हरीश झामनाणी, नवलराय बच्चाणी के साथ अन्य पदाधिकारियों ने हिंगलाज माता की पुजा अर्चना कर महाराज दाहरसेन को श्रृद्धासुमन अर्पित कर कार्यक्रम की शुरूआत की।

पर्यटन विभाग द्वारा सोहन भाट द्वारा कच्ची घोड़ी नृत्य, घनश्याम भगत, भारती शर्मा, लक्ष्मी मेहरा, लक्ष्मी बुंदेल, रूकमणी एवं ग्रुप द्वारा राष्ट्रभक्ति गीत व नृत्यों की प्रस्तुति दी गयी। केजी ज्ञानी, गिरीश, दीपा लखन द्वारा देशभक्ति गीत प्रस्तुत कर लोगों का मन मोह लिया। नवलराय बच्चानी द्वारा भी देशभक्ति गीत प्रस्तुत किया गया। सर्वानन्द विद्या मंदिर स्कूल की रिया एण्ड पार्टी ने देशभक्ति सामूहिक नृत्य प्रचण्ड बोले…….., एकल गान में हर्षिता ठारवाणी ने ऐ मेरे प्यारे वतन…….., हरिसुन्दर बालिका उ.मा. विद्यालय सामूहिक नृत्य कोमल एण्ड पार्टी द्वारा दी गयी। नरवासी उ.मा. विद्यालय की सोनम एण्ड पार्टी द्वारा सामूहिक नृत्य व सोहिल रिझवाणी ने गीत ये देश है वीर जवानों का….., आदर्श उ.मा. विद्यालय मोहित ने जय हो जय हो……. और नितन ने तीन रंग का हमारा तिरंगा गीत प्रस्तुत किया व रा.उ.मा. विद्यालय, खारी खुई और संत कवंरराम उ.मा. विद्यालय के बच्चों ने देशभक्ति आधारित गीतों पर नृत्य की प्रस्तुति देकर सभी को आंनदित कर दिया।

कार्यक्रम का संचालन आभा भारद्वाज व महेन्द्र कुमार तीर्थाणी ने किया। स्वागत भाषण कंवल प्रकाश किशनानी ने दिया। वन्देमातरम् ममता तुलसायानी ने गया। अंत में धन्यवाद उपमहापौर सम्पत सांखला ने दिया।

इस अवसर पर, पर्यटन विभाग के पर्यटन अधिकारी रतनलाल तुनवाल, सहायक पर्यटन अधिकारी प्रत्युमनदेथा, भगवान कलवाणी, नवीन सोगानी, मोहन तुलसयानी, कमलेश शर्मा, बलराम हरलाणी, मोहन लालवानी, विनीत लोहिया, वेदप्रकाश जोशी, खेमचंद नारवाणी, महेश सावलानी, कमलेश शर्मा, रमेश मेंघाणी, महेश टेकचंदानी, तुलसी सोनी, श्वेता शर्मा, गिरधर तेजवानी, प्रकाश गुरबाणी, दौलत सिंह सहित विद्यालयों के छात्र, विजेता व पुरस्कार प्राप्त करने वाले प्रतिभागी सहित गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.