806वां उर्स मेला : प्रशासनिक व्यवस्थाओं के लिए बैठक आयोजित - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

806वां उर्स मेला : प्रशासनिक व्यवस्थाओं के लिए बैठक आयोजित

अजमेर। जिला कलेक्टर गौरव गोयल ने गरीब नवाज ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के 806वें सालाना उर्स की प्रशासनिक व्यवस्थाओं के संबंध में मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में संबंधित विभागों एवं संस्थाओं के प्रतिनिधियों की बैठक ली। बैठक में निर्णय लिया गया कि दरगाह क्षेत्र में समस्त प्रकार के अस्थायी अतिक्रमण तुरन्त प्रभाव से हटाए जाएंगे। बार-बार अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों की दुकानों को मेला अवधि के लिए सीज कर दिया जाएगा।

जिला कलेक्टर ने कहा कि दरगाह क्षेत्र में पानी, बिजली एवं सफाई की व्यवस्थाएं चाक चौबंद की जानी चाहिए। मेले के दौरान दरगाह क्षेत्र में पेयजल की अतिरिक्त आपूर्ति की जानी चाहिए। इसमें दरगाह क्षेत्र के अलावा शहर के अन्य क्षेत्रों में भी नियमित जलापूर्ति बाधित नहीं होनी चाहिए।  दरगाह के अन्तर्राष्ट्रीय पहचान को कायम रखते हुए विभिन्न विभागों को सौंपे गए उत्तरदायित्वों का निर्वहन गम्भीरता के साथ किया जाना चाहिए। उर्स की व्यवस्थाओं से जुड़े अधिकारियों, कर्मचारियों एवं कार्यकर्ताओं को परिचय पत्र जारी किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि दरगाह क्षेत्र में नगर निगम के माध्यम से प्रभावी पेस्ट कंट्रोल किया जाएगा। इसके साथ ही बेसहारा जानवरों की धरपकड़ करने का भी कार्य किया जाएगा। बाहर से आने वाले जायरीन की सुविधा के लिए कायड़ विश्राम स्थली में विशेष व्यवस्थाएं की गई है। सरकार द्वारा निर्धारित किराए पर रोडवेज बसों के माध्यम से दरगाह आने वाले जायरीन के लिए गेट के पास ही बस की व्यवस्था उपलब्घ करवायी जाएगी। शहर में आने के लिए निजी वाहन मुख्य द्वार से आधा किलोमीटर दूरी पर बनाए गए स्टैण्ड पर खड़े रहेंगे। मदार एवं दौराई रेलवे स्टेशनों से भी शहर की कनेक्टिीविटी के लिए पर्याप्त मात्रा में सिटी बसों का संचालन किया जाएगा। प्रत्येक सिटी बस में यात्री किराया दरों की सूची प्रदर्शित की जाएगी।

उन्होंने कहा कि कायड़ विश्राम स्थली पर अजमेर विकास प्राधिकरण द्वारा व्यवस्थाएं अंजाम दी जाएगी। जायरिनों की सुविधा के लिए 100 अतिरिक्त शौचालयों का निर्माण किया जा रहा है जो मेला प्रारम्भ होने से पूर्व पूर्ण हो जाएगा। उन्होंने समस्त व्यवस्थाएं 13 मार्च तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। कायड़ विश्राम स्थली में सामुदायिक रसोईघर दरगाह कमेटी के माध्यम से स्थापित किया जाएगा। जिला रसद विभाग द्वारा 4 अन्नपूर्णा भंडार विश्राम स्थली में संचालित किए जाएंगे। दरगाह क्षेत्र तथा कायड़ विश्राम स्थली के कंट्रोल रूम में ही चिकित्सा एवं स्वस्थ्य विभाग द्वारा खाद्य सामग्री टेस्टिंग लैब स्थापित की जाएगी। खाद्य नमूने का हाथों-हाथ परीक्षण करके तुरन्त परिणाम दिया जाएगा और नमूने सही नहीं पाए जाने पर तुरन्त कार्यवाही की जाएगी।

बैठक में निर्णय लिया गया कि दरगाह परिसर में प्रशासनिक व्यवस्थाओं तथा कव्वाली के अलावा समस्त प्रकार के लाउड स्पीकर बंद रहेंगे। पब्लिक एड्रेस सिस्टम अच्छा कार्य करें। परिसर में ज्यादा से ज्यादा जगह खुली रहे इसका प्रयास किया जाए। अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों द्वारा पेश की जाने वाली चादर मेले के प्रथम तीन दिवसों में पेश की जा सकेगी। दरगाह क्षेत्र में जगह-जगह बड़े साईज के साईन बोर्ड लगाए जाए ताकि जायरिनों को कोई कठिनाई ना हो। बैठक में निर्देश दिए गए कि सफाई व्यवस्था चाक चौबंद रहे तथा होटल वाले बचा खाना सड़कों पर ना फैंके। ऎसा पाए जाने पर सख्ती बरती जाएगी।

उन्होंने कहा कि दरगाह क्षेत्र से नियमित अतिक्रमण हटाए जाने चाहिए। जेबतराश व अन्य असामाजिक गतिविधयों को अंजाम देने वाले तत्वों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। सुरक्षा के बारे में किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलेक्टर कैलाशचंद शर्मा, अबु सूफियान चौहान, अरविंद कुमार सेंगवा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोलाराम, दरगाह कमेटी के नाजीम आई.बी.पीरजादा, सहायक नाजिम डॉ. मौहम्मद आदिल, हाजी मौहम्मद सिद्दीक, दरगाह दीवान के प्रतिनिधि एस.एन.चिश्ती, अंजुमन सैय्यद जादगान के सह सचिव सैय्यद मुस्व्वीर चिश्ती, सदस्य आले बदर चिश्ती, अंजुमन यादगार के अध्यक्ष अब्बदुल जरार चिश्ती, सचिव अब्बदुल माजिद चिश्ती, अंदर कोटियान पंचायत से एस.एन.अकबर, सरवाड़ दरगाह के मुत्तवली मौहम्मद युसुफ सहित पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी उपस्थित थे।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.