गौरी लंकेश हत्या मामले में SIT को बड़ी कामयाबी, पहला आरोपी केटी नवीन कुमार गिरफ्तार - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

गौरी लंकेश हत्या मामले में SIT को बड़ी कामयाबी, पहला आरोपी केटी नवीन कुमार गिरफ्तार

bangalore, bengaluru, gauri lankesh, arrest, SIT, special investigation team, gauri lankesh murder case, kt navin kumar arrest, arrested in  gauri lankesh murder case, murder case of gauri lankesh
बेंगलुरु। वरिष्ठ पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या के मामले में विशेष जांच दल (एसआईटी) को मामले के करीब छह महीने बाद बड़ी सफलता हाथ लगी है। इस मामले में एसआईटी ने एक व्यक्ति को गिफ्तार किया है, जो कि हिंदू युवा सेना से जुड़ा है और इस मामले का आरोपी बताया जा रहा है। करीब 6 महीने पूर्व हुई हत्या के इस मामले में 37 वर्षीय व्यापारी केटी नवीन कुमार को गिरफ्तार किया गया है, जो कि इस मामले में पहला आरोपी बना है।
 

जांच एजेंसी ने कोर्ट को जानकारी दी है कि आरोपी नवीन कुमार को 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। अवैध हथियार रखने के मामले में नवीन कुमार पर पहले से ही जांच चल रही थी। पुलिस का कहना है कि उसे नवीन के बारे में गुप्त सूचना मिली थी जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि कर्नाटक के मांड्या जिले का रहने वाला नवीन कट्टरवादी दक्षिणपंथी संगठन हिंदू युवा सेना का संस्थापक बताया जाता है।

खबरों के मुताबिक, जांच में पता चला था कि कुमार कट्टर हिंदुवादी संगठन हिंदू युवा सेना से जुड़ा हुआ है और कथित रूप से वह सनातन संस्था और जनजागृति समिति का भी सदस्य है। उसके पास से 0.32 कैलिबर की 15 राउंड से ज़्यादा कारट्रीज मिली है, जो कि 7.35 एमएम कारट्रीज की तरह ही होती है। यह भी कहा जा रहा है कि नवीन हिंदू देवी-देवताओं के अपमान को लेकर गौरी लंकेश से काफी नाराज भी था। वहीं पुलिस का कहना है कि उसने ही हत्या के अन्य दो संदिग्धों को शूटिंग की ट्रेनिंग दी थी।
 

आपको बता दें कि पिछले साल ही सितंबर के माह में पांच तारीख को चर्चित पत्रकार एवं 'लंकेश पत्रिके' की संपादक गौरी लंकेश की बेंगलुरु स्थित उनके घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या की यह वारदात इलाके के सीसीटीवी कैमरे में रिकॉर्ड हो गई थी, लेकिन हेलमेट पहनने के वजह से हमलावरों के चेहरे नजर नहीं आ रहे थे। लंकेश की हत्या को लेकर आम लोगों सहित कई पत्रकार संगठनों ने भी काफी विरोध किया था। बाद में राज्य सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था।


Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.