स्वामी टेऊँरामजी महाराज के जीवन से प्रेरणा लेकर अपने जीवन को बदलें : स्वामी भगतप्रकाश - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

स्वामी टेऊँरामजी महाराज के जीवन से प्रेरणा लेकर अपने जीवन को बदलें : स्वामी भगतप्रकाश

अजमेर। वैशाली नगर स्थित प्रेम प्रकाश आश्रम में चल रहे सत्गुरू स्वामी टेऊंराम महाराज जी के पांच दिवसीय जन्मोत्सव कार्यक्रम के चौथे दिन प्रातः सामूहिक ध्यान स्वामी ब्रह्मानन्द शास्त्री के नेतृत्व में किया गया।  जिसमें आश्रम के कई श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया। स्वामी ब्रह्मानन्द शास्त्री ने ध्यान करने के बारे में पूर्ण जानकारी देते हुए बताया कि कैसे इससे जीवन परिवर्तन आता है। मानसिक दुविधा से छुटकारा मिलता है।

संत ओम प्रकाश शास्त्री ने बताया कि संतों महात्माओं के सत्संग जिसमें संत माणिकलाल, संत राजूराम, संत हरीश, स्वामी मनोहरलाल जी के प्रवचन हुए। प्रेम प्रकाश मण्डलाध्यक्ष स्वामी भगतप्रकाश महाराज ने अपने प्रवचन में बताया कि मानव मात्र को जीवन में संयम धारण कर अपने पथ पर आगे बढ़ते जाना है। हमें ईश्वर के अस्तित्व में पूर्ण विश्वास होना चाहिए । भक्ति कभी भी दिखावे मात्र के लिए , कीमती पदार्थ चढ़ाने आदि  जैसी नहीं होनी चाहिए। भगवान को दिखावा व कीमती पदार्थ नहीं चाहिए । अगाध श्रद्धा, विश्वास के साथ स्मरण करने से ही वे प्रसन्न हो जाते है । इसके बाद ब्रह्म भोज का आयोजन किया गया। जिसमें अजमेर शहर के सैकड़ों ब्राह्मण उपस्थित थे।

शाम को सत्संग सभा में कई तरह की सांस्कृतिक प्रस्तुतियां बालक-बालिकाओं द्वारा दी गई। जिसमें अमरापुर के मिली सजायो जैसे कई भजनों को बालक बालिकाओं ने मंच पर प्रस्तुत कर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। उसके साथ ही सद्गुरू स्वामी टेऊँराम जी महाराज की जीवनी के अन्तर्गत एक लघु नाटिका प्रस्तुत की गई। दिल्ली की प्रसिद्ध मनोज-रिया एण्ड पार्टी द्वारा कृष्ण लीला का मंचन किया गया। इसके बाद संत ओम प्रकाश का सत्संग हुआ । स्वामी ब्रह्मानन्द शास्त्री ने अपने प्रवचन में कर्मों के प्रतिफल के बारे में बताते हुए कहा कि हमें अपने किए कर्मां का फल अवश्य मिलता है । अच्छे कर्म का फल अच्छा एवं बुरे कर्म का फल बुरा मिलेगा । इस जन्म में नहीं तो अगले जन्म में मिलेगा। कई  प्रेम प्रकाश आश्रम के महामण्डलेश्वर स्वामी भगत प्रकाश ने अपनी अमृतमय वाणी में बताया कि हमें स्वामी टेऊँरामजी महाराज के जीवन से प्रेरणा लेकर अपने जीवन को बदलना है। हमें उनके बनाएं स्थान पर पूर्ण सच्ची भावना से सेवा, स्मरण, सत्संग करके अपने मानव जीवन को सफल बनाना है।

जन्मोत्सव के अन्तिम दिन के कार्यक्रमों के बारे में जानकारी देते हुए आश्रम के संत ओम प्रकाश जी ने बताया कि सुबह 6 बजे श्री गुरू महाराज की मूर्तियों की पूजा व 132 भोग लगाये जायेंगे 7 बजे 132 दीपों द्वारा महा आरती, 7:30 से 9 बजे तक हवन तत्पश्चात् ध्वजावन्दन, 10.30 बजे प्रेम प्रकाश आश्रम मार्ग का लोकार्पण समारोह होगा। प्रेम प्रकाश मार्ग का लोकार्पण प्रेम प्रकाश मण्डलाचार्य सद्गुरू स्वामी भगत प्रकाश महाराज के कर कमलों द्वारा होगा। समारोह की अध्यक्षता स्वामी ब्रह्मानन्द शास्त्री करंगे। इसके बाद सत्संग व प्रेम प्रकाश ग्रन्थ का भोग एवं आम भण्डारा। शाम 4:30 से 9 बजे तक संत महात्माओं का सत्संग एवं पल्लव पाकर उत्सव की समाप्ति होगी।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.