संत की संगत से जीव का कल्याण व भवसागर से होते है पार : स्वामी चेतनकृष्ण - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

संत की संगत से जीव का कल्याण व भवसागर से होते है पार : स्वामी चेतनकृष्ण

अजमेर। खारी कुई स्थित स्वामी ग्वालानन्द आश्रम परिसर में  आयोजित सत्संग प्रवचनो में पूणे के स्वामी ग्वालानन्द आश्रम के महन्त स्वामी चेतन कृष्ण महाराज ने कहा कि संत की संगत से जीव का कल्याण होता है और भवसागर से भी पार हो जाता है। महन्त स्वमी चेतन कृष्ण ने अपने सत्संग में बताया कि चौराखी लाख योनियो के पश्चात मानव योनि मिलती है हमे इस जीवन काल में ही मुक्ति का मार्ग अपनाना चाहिये।

संत अजय कुमार ने सिन्धी में भजन संत कन था कुल जा कल्याण झूलेलाल जो छण्डो लगायो, संत रमेश नारवानी नींगर ने कलयुग में सत्संग की महिमा बताई और कहा कि हमें जीवन रूपी नेया से पार होने के लिए सत्संग का ही सहारा लेना होगा। संत हरीश कुमार एवं रवि कुमार ने सामुहिक सत्संग भजनो के माध्यम से बताया कि सन्तो की जीवन जीव के कल्याण हेतु होता है और संत जीवो के कल्याण हेतु ही इस भवसागर में अवतरित होते है। इसलिए हमें चाहिये कि सन्तो महात्माओ के बताये मार्ग पर चलकर आवागमन से मुक्त होना है।

आश्रम के प्रवक्ता अशोक झामनानी एवं रमेश लालवानी ने बताया कि इस अवसर पर महन्त स्वामी चेतनकृष्ण महाराज के जन्म महोत्सव के अवसर पर जरूरत मन्दो में कम्बल वितरण, मोजों का वितरण, राधाकृष्ण की तस्वीरो का वितरण भी किया गया। कार्यक्रम में ब्रम्ह भोज का आयोजन, कन्या भोज एवं आम भण्डारे का आयोजन किया गया जिसमे सैकडों श्रद्वालुओ ने लाभ लिया। कार्यक्रम में पूज्य सिन्धी पंचायत अजमेर कार्यकारी उपाध्यक्ष थांवरदास टोरानी, विष्णु जुमानी, निम्मादेवी सहित अन्य ने सेवाऐ प्रदान की।       



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.