नशा मुक्ति अभियान व एनिमिया मुक्त राजस्थान अभियान का शुभारंभ - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

नशा मुक्ति अभियान व एनिमिया मुक्त राजस्थान अभियान का शुभारंभ

अजमेर। सर्वोदय दिवस पर बुधवार को नशा मुक्ति अभियान व एनिमिया मुक्त राजस्थान का जिला स्तरीय समारोह राजकीय सावित्री उच्च माध्यमिक विद्यालय के सभागार में आयोजित किया गया। समारोह में जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने सभी से नशा प्रवृति को त्यागने की अपील की।
   
जिला कलेक्टर ने कहा कि नशे से व्यक्ति का जीवन एवं भविष्य खराब हो जाता है तथा वह अपने दायित्वों को सही रूप से निर्वहन नहीं कर पाता है। उसकी कार्यक्षमता कम हो जाती है तथा बीमारियों से ग्रस्त हो जाता है। जिससे उसकी परिवार, कार्यालय, बच्चों तथा समाज के प्रति भूमिका समाप्त हो जाती है। उन्होंने सभी से विशेषकर छात्राओं से नशा प्रवृति से दूर रहने की अपील की। उन्होंने कहा कि एनिमिया रोगी के शरीर में हीमोग्लोबीन की मात्रा कम हो जाती है। उससे वह एनिमिया रोग से ग्रसित हो जाता है। ऎसा रोगी के शरीर में स्फूर्ति की कमी होती है। इससे बचने के लिए उन्होंने पालक हरी सब्जी का अधिक से अघिक सेवन करने को कहा।
     
शर्मा ने बताया कि पुलिस एवं उपखण्ड अधिकारियों के माध्यम से भी नशा संबंधी सामग्री के विक्रय पर रोक लगायी गई है तथा उन्हें इस संबंध में और अधिक सख्ती से पालना करने के भी निर्देश दिए गए है।
   
विधिक सेवा प्राधिकरण के एडीजे शक्ति सिंह शेखावत ने नशे को जीवन का नाश बताया और कहा कि व्यक्ति को किसी भी प्रकार का नशा नहीं करना चाहिए साथ ही उन्होने विधिक पहलुओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी।
   
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. कृष्ण कुमार सोनी ने कहा यह महज एक योजना या अभियान मात्र नहीं है इसे प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन में लागू करके इसे पूर्ण रूप से खत्म करना है और राजस्थान को नशा मुक्त बनाया जावे और कहा कि समस्त गर्भवती महिलाओ को, धात्री माताओं केा ( गर्भावस्था के चतुर्थ माह से द्वितीय तिमाही गर्भधारण के 14 वे सप्ताह से पूरे गर्भावस्था के दौरान) रोजाना एक आईएफए की गोली कम से कम 180 दिन एवं प्रसव के उपरान्त एक आईएफए की गोली 180 दिन तक दी जाए। जिससे राजस्थान को एनिमिया मुक्त बनाया जाए।
   
इस मौके पर अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.एस.जोधा द्वारा पावरपाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से नशा मुक्ति अभियान एवं एनिमिया मुक्त राजस्थान के बारे में विस्तृत जानकारी दी और बताया की जिले के समस्त स्कूल आंगनबाडी केन्द्र एवं राजकीय कार्यालयों को तम्बाकू/ नशा मुक्त घोषित करें। इस आशय के साइनेज भी प्रत्येक कार्यालय में लगवायें। इसी क्रम में आयरन की कमी को दूर करने के लिये खाद्य विविधता /मात्र/आवृति और खाद्य संवद्र्धन को बढावा देते हुए आयरन विटामिन सी एवं प्रोटीन की अधिकता वाले भोजन के उपयोग को बढावा दे। हरी सब्जियों का अधिक से अधिक उपयोग करे तथा विभाग द्वारा गर्भवती महिलाओ में एनिमिया की जांच समय-समय पर की जाती है तथा एनिमिया के स्तर के अनुसार उनको सलाह व उपचार दिया जाता है।

जीवन के लिए प्रतिज्ञा शपथ दिलायी
   
जिला कलेक्टर ने इस मौके पर उपस्थित समस्त अधिकारियों एवं छात्राओं को जीवन के लिए प्रतिज्ञा की शपथ दिलायी। जिसमें किसी प्रकार के तम्बाकू उत्पादों एवं नशीले पदार्थ का सेवन नहीं करने तथा अपने परिचितों, मित्रों एवं परिजनों को भी इसका सेवन नहीं करने के लिए प्रेरित करने की शपथ ली गई।

आयरन फोलिक एसिड की गोली खिलाकर किया शुभारंभ
जिला कलक्टर ने समारोह में एनिमिया मुक्त राजस्थान अभियान के तहत छात्राओं को आयरन फोलिक एसिड की नीली गोली खिलाकर शुभारंभ किया। यह गोली हर सप्ताह दी जानी है।

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान में किया सम्मानित
जिला कलेक्टर ने समारोह में प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत जिले में बेहतर कार्य करने वाली चिकित्सा संस्थानों को सम्मानित किया। सम्मानित होने वाली संस्थाओं में सैटेलाइट जिला चिकित्सालय आदर्श नगर अजमेर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र श्रीनगर तथा प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र खरवा थी। भारत सरकार के आदेशानुसार यह अभियान जून 16 से मनाया जा रहा है। योजना प्रारम्भ से अब तक कुल 65 हजार 715 गर्भवती महिलाओं को तथा इस वर्ष जनवरी 2019 तक कुल 21 हजार 442 गर्भवती महिलाओं को एएनसी सेवाएं प्रदान की गई।

कुष्ठ रोग जागरूकता रथ को किया रवाना
इस अवसर पर जिला कलेक्टर शर्मा ने कुष्ठ रोग जागरूकता के लिए बनाए गए रथ को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। यह रथ जिले में भ्रमण कर कुष्ठ रोग के प्रति जागरूकता पैदा करने का कार्य करेगा।
   
समारोह में अतिरिक्त जिला कलक्टर द्वितीय अबु सूफियान चौहान, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के.के.सोनी, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सम्पत जोधा, डीपीएम एस.के.सिंह, जन सम्पर्क विभाग के उप निदेशक महेश चन्द्र शर्मा, विद्यालय के  प्राचार्य लीलामणी गुप्ता सहित चिकित्सा, एनटीसीपी सेल के सदस्य एवं शिक्षा विभाग के कर्मी उपस्थित थे।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.