807वां उर्स मेला : प्रशासनिक व्यवस्थाओं के लिए बैठक आयोजित - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

807वां उर्स मेला : प्रशासनिक व्यवस्थाओं के लिए बैठक आयोजित

अजमेर। जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने गरीब नवाज ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के 807वें सालाना उर्स की प्रशासनिक व्यवस्थाओं के संबंध में सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में संबंधित विभागों एवं संस्थाओं के प्रतिनिधियों की बैठक ली। बैठक में निर्णय लिया गया कि दरगाह क्षेत्र एवं कायड़ विश्राम स्थली में चाक चौबंद व्यवस्था के साथ -साथ सुरक्षा व्यवस्था के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।

जिला कलेक्टर ने कहा कि दरगाह क्षेत्र में पानी, बिजली एवं सफाई की व्यवस्थाएं चाक चौबंद की जानी चाहिए। मेले के दौरान दरगाह क्षेत्र में पेयजल की अतिरिक्त आपूर्ति की जानी चाहिए। इसमें दरगाह क्षेत्र के अलावा शहर के अन्य क्षेत्रों में भी नियमित जलापूर्ति बाधित नहीं होनी चाहिए। दरगाह क्षेत्र के समस्त हैण्डपम्पों को 15 फरवरी तक दुरूस्त करवाया जाएगा।  दरगाह क्षेत्र एवं विश्राम स्थली की वायरिंग एवं विद्युत व्यवस्था का प्रमाणान सक्षम निरीक्षकों द्वारा किया जाए। दरगाह के अन्तर्राष्ट्रीय पहचान को कायम रखते हुए विभिन्न विभागों को सौंपे गए उत्तरदायित्वों का निर्वहन गम्भीरता के साथ निर्धारित समयावधि में किया जाना चाहिए। विभिन्न स्थानों पर मरम्मत एवं अन्य कार्यों के लिए स्थानों का चिन्हिकरण व्यापार एसोसिएशन एवं अन्य संस्थाएं करके प्रशासन को उपलब्घ करवाएंगे।

उन्होंने कहा कि दरगाह क्षेत्र में नगर निगम के माध्यम से बेसहारा जानवरों की धरपकड़ करने का भी कार्य किया जाएगा। बाहर से आने वाले जायरीन की सुविधा के लिए कायड़ विश्राम स्थली में विशेष व्यवस्थाएं की गई है। सरकार द्वारा निर्धारित किराए पर रोडवेज बसों के माध्यम से दरगाह आने वाले जायरीन के लिए गेट के पास ही बस की व्यवस्था उपलब्घ करवायी जाएगी। शहर में आने के लिए निजी वाहन मुख्य द्वार से आधा किलोमीटर दूरी पर बनाए गए स्टैण्ड पर खड़े रहेंगे। मदार एवं दौराई रेलवे स्टेशनों से भी शहर की कंक्टविटी के लिए पर्याप्त मात्रा में रोडवेज बसों का संचालन किया जाएगा। विशेष एवं सामान्य रैलगाड़ियों के आवागमन के समय परिवहन निगम को पर्याप्त बसे उपलब्ध करानी होगी। जायरीन की सुविधा के लिए रामप्रसाद घाट पर भी रोडवेज बसे उपलब्ध करवाने के संबंध में भी आवश्यक निर्देश प्रदान किए।

उन्होंने कहा कि कायड़ विश्राम स्थली पर अजमेर विकास प्राधिकरण द्वारा व्यवस्थाएं अंजाम दी जाएगी। विश्राम स्थली में दरगाह कमेटी द्वारा सफाई व्यवस्था अंजाम दी जाएगी। इसके लिए अल्प संख्यक मंत्रालय के मार्गदर्शन के पश्चात अजमेर विकास प्राधिकरण द्वारा वित उपलब्ध करवाया जाएगा। जायरिन की सुविधा के लिए अतिरिक्त शौचालयों को उपलब्ध करवाया जाएगा। कायड़ विश्राम स्थली में रसद विभाग के माध्यम से गैस कम्पनियों के द्वारा कूकिंग पोइंट स्थापित किए जाएंगे। इन पर 10 रूपए प्रति घण्टा के भुगतान से खाना पकाया जा सकेगा। सम्पूर्ण गैस पोइंट की जांच सुरक्षा अधीकारी द्वारा समय -समय पर की जाएगी। डोरमेट्री और शैड्स में खाना पकाना पूरी तरह से निषेध रहेगा। इस संबंध में सिविल डिफेंस के स्वयं सेवकों द्वारा जायरीन को जागरूक किया जाएगा। जिला रसद विभाग द्वारा 2 अन्नपूर्णा भण्डार विश्राम स्थली में संचालित किए जाएंगे।

बैठक में निर्णय लिया गया कि अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों द्वारा पेश की जाने वाली चादर मेले के प्रथम तीन दिवसों में पेश की जा सकेगी। इस संबंध में संबंधित से दरगाह कमेटी द्वारा सम्पर्क स्थापित किया जाएगा। दरगाह क्षेत्र में जगह-जगह बड़े साईज के साईन बोर्ड लगाए जाए ताकि जायरिनों को कोई कठिनाई ना हो। बैठक में निर्देश दिए गए कि सफाई व्यवस्था चाक चौबंद रहे। फूलों की टोकरी के प्रबंधन के लिए टोकरी लाने वाले व्यक्तियों को दुकान के अनुसार बैजेज उपलब्ध करवाए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि तारागढ़ के लिए समस्त प्रकार के ऑटो तुरन्त प्रभाव से निषेध किए गए है। उर्स के दौरान ऑटो रिक्शे की रेट का विभिन्न स्थानों पर डिस्पले करवाया जाएगा और इनकी रैण्डमली जांच परिवहन विभाग द्वारा अभी से आरम्भ की जाएगी। निर्धारित दर से अधिक वसूलने पर कठोर कार्यवाही अमल में लायी जाएगी। ऑटो रिक्शा एवं टैम्पो का विश्राम स्थली क्षेत्र में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

उन्होंने कहा कि दरगाह क्षेत्र से  अस्थायी अतिक्रमण नियमित हटाए जाने चाहिए। दुकानदार अपनी दुकान सीमा के भीतर ही सामान रखेंगे। दरगाह क्षेत्र में रोडलाइटों के पोलों को स्थानान्तरित किया जाएगा। उनके स्थान पर दीवारों पर हैरिटेज लाइटें लगायी जाएगी। यह कार्य 20 फरवरी तक पूर्ण किया जाएगा। जेबतराश व अन्य असामाजिक गतिविधयों को अंजाम देने वाले तत्वों के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। सुरक्षा के बारे में किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलेक्टर अबु सूफियान चौहान, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोलाराम एवं पुष्पेन्द्र सिंह, दरगाह कमेटी के नाजीम शकील अहमद, दरगाह दीवान के प्रतिनिधि एस.एन.चिश्ती, अंजुमन सैय्यद जादगान के सैय्यद मुस्व्वीर चिश्ती, अंजुमन यादगार के अध्यक्ष अब्बदुल जर्रार चिश्ती, तारागढ़ दरगाह के अध्यक्ष मोहसिन अली सुल्तानी  एवं पूर्व अध्यक्ष सरवर सिद्दकी सहित पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी उपस्थित थे।



Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.