गांव, गरीब और शोषित को राहत देना सरकार का पहला उद्देश्य : डाॅ.शर्मा - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

गांव, गरीब और शोषित को राहत देना सरकार का पहला उद्देश्य : डाॅ.शर्मा

अजमेर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं, चिकित्सा शिक्षा एवं सूचना व जनसम्पर्क मंत्री डाॅ. रघु शर्मा  का मंत्री बनने के बाद केकड़ी विधानसभा क्षेत्र का दौरा यादगार बन गया। डाॅ. शर्मा ने क्षेत्रावासियों द्वारा प्रस्तुत समस्याओं पर हाथों हाथ एक्शन लेते हुए अधिकारियों को तुरन्त निराकरण के निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा, चिकित्सा व्यवस्था, पेंशन, सरकारी आवास, रसद सहित अन्य योजनाएं आमजन को राहत देने के लिए है। इनमें किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नही की जाएगी। अधिकारी सजग रहकर समस्याओं का निराकरण के लिए काम करें।

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रमों को सम्बोधित करते हुए डाॅ. शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार की कथनी और करनी में कोई फर्क नही है। हमने किसानों से कर्ज माफी का वादा किया था। सरकार बनने के महज 10 दिनों के अन्दर हमनें यह वादा निभाया और किसानों का कर्जा माफ किया। राज्य सरकार का फोकस आम आदमी, गांव, गरीब और पीड़ित व्यक्तियों को राहत पहुंचाना है। इसके लिए महात्मा गांधी नरेगा, विभिन्न पेंशन योजनाएं, इंदिरा आवास योजना, खाद्य सुरक्षा अभिनियम, निशुल्क जांच व दवा योजना प्रत्येक गांव, ढ़ाणी एवं शहरों तक सुलभ पेयजल व बिजली सहित अन्य योजनाएं लागू की गई है। अधिकारी यह तय कर लें कि प्रत्येक पात्र व्यक्ति तक इन योजनाओं का लाभ मिलेगा।

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी नरेगा एक ऐसी योजना है जो ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को रोजगार और जीवन का आधार देती है। हमारी कोशिश रहेगी कि ज्यादा से ज्यादा ग्रामीण इस योजना के तहत लाभान्वित हो और उन्हें अधिकतम मजदूरी का भुगतान हों। पंचायतीराज और ग्रामीण विकास की अन्य योजनाओं से भी आमजन को लाभान्वित किया जाएगा। गांवों में विशेष अभियान के जरिए लोगों को राहत प्रदान की जाएगी।

उन्होंने कहा कि वृद्धास्था एवं अन्य पेंशन योजनाएं गांवों में गरीब लोगों की जरूरत और सम्मान से जुड़ी योजनाएं है ज्यादा से ज्यादा लोगों को इनका लाभ मिलेगा। इसी तरह खाद्य सुरक्षा अधिनियम में ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभान्वित किया जाएगा।

डाॅ.शर्मा ने कहा कि प्रत्येक गांव, ढाणी और शहरी क्षेत्रों तक पेयजल उपलब्ध कराना हमारी सर्वोच्य प्राथमिकता है। अधिकारियों को निर्देश दिए गए है कि जनवरी से जून तक पेयजल संकट से निपटने के लिए अलर्ट रहकर काम करें। हम आगामी 20 साल की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए। योजनाएं तैयार करेंगे। मार्च से जून तक पेयजल संकट से ग्रस्त इलाकों में टेंकरों के माध्यम से भी जलापूर्ति की जाएगी।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पूरे प्रदेश में स्वाइन फ्लू और अन्य मौसमी बीमारियों से निपटने के लिए वाॅर अलर्ट होकर काम कर रही है। हमने प्रत्येक उप स्वास्थ्य केन्द्र स्तर  पर भी टेमीफ्लू उपलब्ध करायी है। इसी तरह अन्य बीमारियों की भी रोकथाम के लिए पूरी मुस्तैदी के साथ इंतजाम किए गए है। हम प्रदेश में चिकित्सा सुविधाओं को समृद्ध करने के लिए संकल्पबद्ध है। बड़े अस्पतालों पर से सामान्य बीमारियों के मरीजों का दबाव कम करने के लिए जिला व उपखण्ड स्तरों के अस्पतालों का भी सशक्तिकरण किया जाएगा।

उन्होंने कि सरकारी कामों में भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नही किया जाएगा। अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए गए है कि वे ईमानदारी और पारदर्शी के साथ काम करें। विद्युत विभाग को किसानों को ज्यादा से ज्यादा बिजली दिन के समय देने के निर्देश दिए गए है। इसी तरह अन्य विभागों को भी आमजन को ज्यादा से ज्यादा राहत प्रदान करने के लिए कहा गया है।

इस अवसर पर देहात अध्यक्ष भूपेन्द्र सिंह राठौड़ एवं सागर शर्मा, शक्ति प्रताप सिंह, हरीराम तोषनीवाल सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे। 




Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.