807वां उर्स मेला : उर्स व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक आयोजित - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

807वां उर्स मेला : उर्स व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक आयोजित

अजमेर। जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा ने गरीब नवाज ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के 807 वें सालाना उर्स की प्रशासनिक व्यवस्थाओं के संबंध में सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में संबंधित विभागों एवं संस्थाओं के प्रतिनिधियों की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने कहा कि दरगाह क्षेत्र में पानी, बिजली एवं सफाई की व्यवस्थाएं चाक चौबंद की जानी चाहिए।

बैठक में जिला कलेक्टर ने निर्देश दिये कि सभी संबंधित विभाग अपने अपने जिम्मे का कार्य दरगाह के अन्तर्राष्ट्रीय पहचान को कायम रखते हुए निर्धारित समय पर पूर्ण करें ताकि उर्स मेले के दौरान जायरिनों को किसी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं आयें। जिला कलक्टर ने मेले के दौरान दरगाह क्षेत्र में पेयजल की अतिरिक्त आपूर्ति की जानी चाहिए। इसमें दरगाह क्षेत्र के अलावा शहर के अन्य क्षेत्रों में भी नियमित जलापूर्ति बाधित नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कायड़ विश्राम स्थली में उर्स के दौरान पर्याप्त जलापूर्ति सुनिश्चित की जाए। उर्स के दौरान शहर की सामान्य जलापूर्ति में व्यवधान नहीं आना चाहिए।

उन्होंने कहा कि उर्स की समयावधि में 24 घण्टे बिजली की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। बिजली की लाईनों की मरम्मत समय पूर्व ही पूर्ण कर ली जाए। दरगाह एवं विश्राम स्थली पर जनरल लाईट वॉयरिंग की जांच कर ली जाए तथा 25 फरवरी तक इस संबंध में आवश्यक प्रमाण पत्र भी दिया जाए। उन्होंने नगर निगम को 25 फरवरी तक अस्थायी लाईटिंग व्यवस्था दरगाह बाजार के प्रमुख मार्गों पर करने के भी निर्देश दिए। बैठक में सुरक्षा की दृष्टि से आस्थाना शरीफ एवं विश्राम स्थली पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए भी दरगाह कमेटी को निर्देश दिए गए। दरगाह कमेटी द्वारा नियुक्त सेवकों की नियुक्ति भी की जाएगी। जिसका सत्यापन पुलिस विभाग द्वारा किया जाएगा।

जिला कलेक्टर ने कहा कि नगर निगम द्वारा मोतीकटला में समय पर कैम्प लगाया जाए तथा 24 घण्टे सफाई की व्यवस्था रखी जाए। इस क्षेत्र में सड़कों के पैचवर्क तथा आवारा पशुओं को पकड़ने का कार्य भी किया जाए। दरगाह क्षेत्र में जायरीनों की चिकित्सा सुविधा के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को 9 अस्थायी डिस्पेंशरी लगाने तथा स्वाईन फ्लू की स्क्रीनिंग करते रहने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि विश्राम स्थली क्षेत्र में छोटे घरेलू  गैस सिलेंडरों का उपयोग रेस्टोरेंट एवं जायरीनों द्वारा अलग से नहीं किया जाए।

उन्होंने कहा कि जायरिनों की सुविधा के लिए निर्धारित किराए पर रोडवेज बसों के माध्यम से दरगाह एवं विश्राम स्थली आने वाले जायरीन के लिए बस की व्यवस्था उपलब्ध करवायी जाएगी। मदार एवं दौराई रेलवे स्टेशनों से भी शहर की कनेक्टिीविटी के लिए पर्याप्त मात्रा में सिटी बसों का संचालन किया जाएगा। प्रत्येक सिटी बस में यात्री किराया दरों की सूची प्रदर्शित की जाएगी। उन्होंने कहा कि कायड़ विश्राम स्थली तथा दरगाह के मध्य रोडवेज द्वारा पर्याप्त मात्रा में यातायात सुविधा उपलब्ध करवायी जाएगी।

उन्होंने कहा कि कायड़ विश्राम स्थली पर अजमेर विकास प्राधिकरण द्वारा व्यवस्थाएं अंजाम दी जाएगी। उन्होंने समस्त व्यवस्थाएं 25 फरवरी तक पूर्ण करने के निर्देश दिए।  अति महत्वपूर्ण व्यक्तियों द्वारा पेश की जाने वाली चादर मेले के प्रथम तीन दिवसों में पेश की जा सकेगी। दरगाह क्षेत्र में जगह-जगह बड़े साईज के साईन बोर्ड लगाए जाए ताकि जायरिनों को कोई कठिनाई ना हो। बैठक में निर्देश दिए गए कि सफाई व्यवस्था चाक चौबंद रहे।

बैठक में जिला  पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप, एडीए के आयुक्त निशान्त जैन, आईएएस प्रशिक्षु तेजस्वी राना, अतिरिक्त जिला कलेक्टर एम एल नेहरा,अबु सूफियान चौहान, अशोक कुमार योगी, दरगाह कमेटी के उपाध्यक्ष सैयद बाबर अशरफ, सहायक नाजिम डॉ. मोहम्मद आदिल, नाजीम शकील अहमद सहित पुलिस एवं प्रशासन के विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।


Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.