कलागुरु डॉ. सुमहेन्द्र की स्मृति में समसामयिक चित्रकला शिविर एवं परिचर्चा का शुभारम्भ - RNews1 Hindi Khabar

Header Ads

कलागुरु डॉ. सुमहेन्द्र की स्मृति में समसामयिक चित्रकला शिविर एवं परिचर्चा का शुभारम्भ

jaipur, rajasthan, art camp, Kalavritt Jaipur, kalavritt camp jaipur, Sneha Art Gallery Hyderabad, Jaipur News, Rajasthan News1, Rajasthan News in Hindi
जयपुर। कलागुरु डा. सुमहेन्द्र शर्मा के 76वें जन्मदिवस के अवसर पर उनकी स्मृति में कलावृत्त और स्नेहा आर्ट गैलरी हैदराबाद के सयुक्त तत्वाधान एवं राजस्थान ललित कला अकादमी के सौजन्य में चार दिवसीय 'समसामयिक कला शिविर एवं कला परिचर्चा-2019' का शुभारम्भ आज राजस्थान ललित कला अकादमी परिसर में हुआ।

कलाविद आरबी गौत्तम ने इस कार्यक्रम की सरहाना करते हुए कहा की कलाकारों की स्मृति मे किये गए कार्यो से यहां कलाकारों मे उत्साह का संचार होता है। डॉ. सुमहेन्द्र हम सब के लिए प्रेरणा स्त्रोत रहे हैं। उन्होंने लगभग कला की सभी विधाओं मे कार्य किया एवं प्रसिद्धि हासिल की। चाहे चित्रकला हो या आधुनिक समसामयिक कला के साथ ही लघु चित्रण सहित सभी कला विधाओं मे उनका सामान अधिकार था।

वरिष्ठ कलाकार भवानी शंकर शर्मा पूर्व अध्यक्ष राजस्थान ललित कला अकादमी ने कहा की सुमहेन्द्र जी जीवट कलाकार थे। कला के प्रति उनका अनुराग युवा कलाकारों के लिए प्रेरणा है, कई कला गतिविधियों मे उनका साथ मुझे हमेशा याद रहेगा। अकादमी द्वारा किये वरिष्ठ कलाकारों के शिविर मे स्वास्थ ठीक नहीं होने पर भी वे शामिल हुए थे।

इस अवसर पर कलावृत के अध्यक्ष संदीप सुमहेन्द्र ने कहा कि कलावृत्त द्वारा हमेशा मूर्तिकला शिविरों का आयोजन किया जाता रहा है, लेकिन अब पहली बार स्नेहा आर्ट गैलेरी के साथ मिलकर समसामयिक चित्रकला शिविर एवं परिचर्चा का आयोजन किया जा रहा है। इस कला शिविर में देश व प्रदेश के प्रख्यात 12 कलाकार, जिनमें कैलाश शर्मा-जयपुर, विरेन्द्र बन्नु-जयपुर, संजीव गोगोई-असम, डा. स्नेहालता प्रसाद-हैदराबाद, अमोल पंवार-पूणे, अनिल गायकवाड़-मध्य प्रदेश, संजय कुमार-उत्तर प्रदेश, रेणुबाला-पठानकोट, विजय नागा-जयपुर, सुमित सेन-जयपुर एवं डा. विभुति पण्डया-उदयपुर जैसे कलाकार शामिल हैं। ये सभी 'समसामयिक' विषयों पर अपने विचारो को रंग एवं तूलिका के माध्यम से कैनवास पर अभिव्यक्त करेंगे। 

स्नेहा आर्ट गैलेरी की संस्थापक डा. स्नेहलता प्रसाद ने कहा कि कला और कला के उत्थान के लिए निरंतर प्रयास कर रहे कलावृत्त के इस कार्यक्रम में सहभागी बनकर अपने आपको गौरान्वित महसूस कर रही हूं। मैं डॉ. सुमहेन्द्र सर की सोच से सदैव प्रभावित रही हूं, जिस तरह से उन्होंने कला और कलाकारों के उत्थान के लिए कई कार्य किये, स्नेहा आर्ट गैलरी भी सदैव उनके पद चिन्हों पर चलते हुए उनके उद्देश्यों को पूर्ण करेंगे।


Get all updates by Like us on Facebook and Follow on Twitter

Powered by Blogger.